बैंकों का सिक्के लेने से 'इनकार', कारोबाारियों ने कहा- खत्म हो जाएगा रोजगार

बैंकों का सिक्के लेने से ‘इनकार’, कारोबाारियों ने कहा- खत्म हो जाएगा रोजगार

सूत्रों के मुताबिक राज्यों में काम कर रहे हैं बैंकों के पास सिक्कों के प्रबंधन के लिये पर्याप्त संख्या में ‘चेस्ट’ नहीं हैं.

पश्चिम बंगाल में बेकरी कारोबारियों ने आरोप लगाया है कि बैंक राज्य में सिक्के नहीं ले रहे और इससे उनकी समस्या बढ़ गयी है. बैंकों के इस कदम से रोजगार गहन क्षेत्र की वित्तीय स्थिति प्रभावित हो रही है. पश्चिम बंगाल में बेकरी कारोबारियों की संयुक्त कार्रवाई समित के सचिव इदरिस अली ने दावा किया कि बैंकों द्वारा पिछले कुछ महीनों से कथित रूप से सिक्के स्वीकार नहीं किये जाने से बेकरी कारोबारियों की कार्यशील पूंजी फंस रही है और उनके कारोबार पर असर पड़ रहा है.

उन्होंने कहा, ‘‘बेकरी कारोबारी जब बैंकों में सिक्के लेकर जा रहे हैं, वे उसे स्वीकार नहीं कर रहे. हम इस बारे में रिजर्व बैंक समेत विभिन्न प्राधिकारों को लगातार इसकी शिकायत कर रहे हैं.’’ अली ने कहा कि छोटे बेकरी कारोबारियों के लिये करीब 50 प्रतिशत बिक्री से प्राप्त राशि सिक्कों में होती है.

उन्होंने कहा कि छोटे एवं मझोले उद्यमी पहले से माल एवं सेवा कर से परेशान हैं जिसमें कर की दर को 5 प्रतिशत से बढ़ाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है. अब सिक्के के मुद्दे ने उनकी समस्या और बढ़ा दी है. सूत्रों के मुताबिक राज्यों में काम कर रहे हैं बैंकों के पास सिक्कों के प्रबंधन के लिये पर्याप्त संख्या में ‘चेस्ट’ नहीं हैं. अली ने कहा, ‘‘अगर स्थिति नहीं सुधरती है तो बड़े पैमाने पर बेकरी कारोबार बंद हो जाएंगे.’’

Leave a Comment

Your email address will not be published.